” शिकायत “

शिकायत तो सभी करते है…….

हम हर दिन कही ना कही देखते होंगे की सबको एक दुसरे से शिकायत है, चाहे वो किसी भी चीज को लेकर हो या किसी बात को लेकर पर हम शिकायत करने से पीछे नहीं हटते है |

अगर हम किसी काम में सफल नहीं होते है तो उसका जिम्मेदार हम किसी ना किसी को ठहराते है, चाहे वो Family Member हो या फिर दोस्त यार …हम कुछ नहीं सोचते है और शिकायत जरुर करते है |

इसी बात को भली भांति ” रंजीत कुमार भगत “ ने एक कविता के माध्यम से बहुत ही अच्छे तरीके से समझाया है | मै बता दू कि रंजीत कुमार भगत जी का पहला कविता ” तन्हाई “ जिसको इतना प्यार आपलोगों ने दिया इसके लिए दिल से Team AC KI AADAT आपका धन्यवाद करती है |

शिकायत तो सभी करते है, पर परिस्तिथि जैसा भी हो उसे जीते हुए जीवन में आगे बढ़ते रहना चाहिए |

          शिकायत तो पैदा और पालने वाले माँ/पिता से भी करते है ||

हमें ये ना मिला, हमें वो ना मिला, हमें ये ना दिया, हमें वो ना दिया |

          शिकायत तो उस सूर्य से भी है दोस्तों जिसकी उर्जा से सारा संसार चलता है ||

दिन भर झुलसाता है, बादलो में क्यों नहीं छिप जाता है |

          शिकायत तो उस शीतल चाँदनी की भी होती है, जिस रोशनी में प्रेम रस जागृत हो जाता है ||

चांदनी रात के बाद अमावास क्यों ले आता है |

          शिकायत तो उस ऊँचे हिमालय से भी करते है, जो मानसूनी हवा को रोककर वर्षा करवाता है ||

पर इतनी भी क्या बारिश की बाढ़ ही आ जाता है |

          शिकायत तो पति को पत्नी से और पत्नी को पति से भी होता है ||

पर दोस्तों याद रखना हमारी जिन्दगी में “शिकायते जितनी कम होगी, जिन्दगी उतनी ही हसीन होगी “ क्योकि लोग शिकायत तो उस खुदा से भी करते है, जिसने ये अनमोल जीवन दिया है |

Story Covered By :- Team AC KI AADAT

Poem Written By Ranjeet K Bhagat

 

 

 

 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *