“जज्बात”

मेरी जिन्दगी सवारी मुझको गले लगाके …..

बैठा दिया पलक पे मुझे ख्वाब से उठाके …..

                                                                      जी हाँ, ये ऊपर का लाइन पढ़कर आपको लगा होगा की ये एक गीत का बस मुखरा है, लेकिन अगर इसकी शब्दों पर ध्यान दे तो बहुत कुछ बाते निकलती है | जिसे मैंने शॉर्ट में JAJBAAT “जज्बात” का नाम दिया है | विडियो के द्वारा समझने के लिए यहाँ क्लिक करे.

अक्सर हम देखते है कि आजकल के दौर में हम आम आदमी बहुत ही जज्बाती हो जाते है | चाहे वो परिस्थिति कोई भी हो और होना भी चाहिए क्योकि हम मानव है |

                                                                        इसी बात को समझने के लिए मैंने एक विडियो बनाया है जिसमे दो दोस्तों के द्वारा उन सभी रिलेशन को जोड़ते हुए दिखाया हूँ  |

और अच्छे से समझने के लिए हम दोनों दोस्त का नाम रख देते है, पहला दोस्त :- “अमित” और दूसरा दोस्त :- “आदित्य” दोनों में गहरी दोस्ती रहती है एकदम भाई की तरह |

                                                                      अमित रूम पर अकेले होता है और आदित्य किसी काम से घर से बहार गया रहता है |

अमित को अचानक जोर से पेट में दर्द होता है और अपने दोस्त को फ़ोन करता है क्योकि उस वक़्त दोस्त ही है जो उसके करीब है क्योकि अगर वो अपने फॅमिली वाले को करता है तो उनलोगों को आते आते काफी वक़्त हो जाता | इसलिए उसने अपने दोस्त को बहुत ही दर्द के अवस्था में जैसे तैसे फ़ोन किया |

अब हम तो पहले मनुष्य है रिलेशन तो बाद में बने तो एक तो मनुष्य दूजा अमित का दोस्त |

                                                                     वो अपने दोस्त का इतना पीड़ा भरा दर्द सुनते ही बिना कुछ सोचे समझे वो भी जज्बाती हो जाता है और मोटरसाइकिल लेकर तेजी से निकल पड़ता है |JAJBAAT “जज्बात” में आकर वो एक तो गलती करता है कि मोटरसाइकिल तेजी से चलाता है और उसी दौरान अपने दोस्त का हालचाल पूछने में परेशान हो जाते है | लेकिन आदित्य अपने दोस्त के पीड़ा को लेकर इतने परेशान हो गए की रास्ते में वो भूल ही गया कि ये मेरे लिए भी खतरनाक शाबित हो सकता है |

                                                                        और रास्ते में आते वक़्त आदित्य रोड पर चलती तेज गति से और आने वाली गाडियों के बारे में भूल जाता है और दुर्भाग्यवश आदित्य का भी Accident हो जाता है |

और एक तरफ उसका दोस्त अमित और दूसरी तरफ अपने दोस्त को बचने के ख्याल से जा रहे आदित्य भी अपने दोस्त की तरह मौत के कगार पर खड़ा हो जाता है, और अब परिस्तिथि ऐसी हो जाती है एक तरफ अमित दम तोड़ता है और दूसरी तरफ आदित्य | अंततः दोनों की मौत हो जाती है |

                                                                         इसीलिए मै बस आपसे ये निवेदन करना चाहता हूँ कि……“आप अपने परिवार या अपने किसी दोस्त या अपने किसी चाहने वालो की बुरी खबर सुनकर या फिर अपने दोस्तों के साथ मौज मस्ती को लेकर इतने जज्बाती हो जाते है कि हम शायद भूल जाते है कि हमारा ये JAJBAAT “जज्बात” हमारे चाहने वालो को, हमारे दोस्तों को, हमारे परिवार को एक साथ दो-दो मुशिबतो का सामना करा सकती है | इसीलिए जिन्दगी के किसी भी परिस्तिथि में, चाहे वो दुःख हो या सुख हो , हमेशा होश से काम ले |”

विडियो को देखने के लिए यहाँ क्लिक करें 

Story Covered By :- Team AC KI AADAT

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *